अपने सस्ते स्मार्ट फोन से अब खींचिए DSLR जैसी Photos, बस अपनाइये ये ट्रिक; जानकर आप भी कहेंगे- वाहवाह 

दृक पंचांग के अनुसार, दर्श अमावस्या या पौष अमावस्या 11 जनवरी 2024 दिन गुरुवार के दिन पड़ रहा है। ऐसे में इस दिन शुभ मुहूर्त की बात करें तो अमावस्या तिथि की शुरुआत 10 जनवरी 2024 दिन बुधवार की रात 8 बजकर 10 मिनट पर हो रही है वहीं समाप्ति अगले दिन यानी 11 जनवरी 2024 दिन गुरुवार शाम 5 बजकर 26 मिनट तक होगी।

अपने सस्ते स्मार्ट फोन से अब खींचिए DSLR जैसी Photos, बस अपनाइये ये ट्रिक; जानकर आप भी कहेंगे- वाहवाह 

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, दर्श अमावस्या के दिन खुले आसमान में चंद्रमा दिखाई नहीं देता है। अमावस्या की तिथि पूर्वजों की तिथि मानी जाती है। इस दिन पूर्वजों की विधि-विधान से पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस दिन पूर्वज धरती पर आते हैं। साथ ही घर के सभी सदस्यों को खुशहाली का आशीर्वाद भी देते हैं। इस दिन पितृ दोष से मुक्ति के लिए पूजा-पाठ भी किया जाता है।

दर्श अमावस्या की शुभ तिथि व मुहूर्त-

दृक पंचांग के अनुसार, दर्श अमावस्या या पौष अमावस्या 11 जनवरी 2024 दिन गुरुवार के दिन पड़ रहा है। ऐसे में इस दिन शुभ मुहूर्त की बात करें तो अमावस्या तिथि की शुरुआत 10 जनवरी 2024 दिन बुधवार की रात 8 बजकर 10 मिनट पर हो रही है वहीं समाप्ति अगले दिन यानी 11 जनवरी 2024 दिन गुरुवार शाम 5 बजकर 26 मिनट तक होगी।

दर्श अमावस्या का क्या महत्व-

ज्योतिष शास्त्रियों के अनुसार, दर्श अमावस्या के दिन पितृ दोष से मुक्ति के लिए काफी महत्वपूर्ण मानी जाती है। इस दिन पितरों को प्रसन्न करने के लिए प्रातकाल उठकर स्नान आदि करके तर्पण करना चाहिए। मान्यता है इस तरह तर्पण करने से घर तथा जीवन में खुशहाली आती है। ज्योतिषियों के अनुसार, जिस जातक की कुंडली में चंद्रमा कमजोर होता है वैसे जातक को दर्श अमावस्या के दिन व्रत रखना चाहिए और चंद्र देव से प्रार्थना करनी चाहिए। साथ ही इस दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए धार्मिक उपाय भी किए जाते हैं।