खरमास में किन-किन चीजों का करना चाहिए दान? जानिए इसके नियम

13 अप्रैल 2024 को सूर्य के मेष राशि में प्रवेश के साथ ही खरमास समाप्त हो जाएगा.

खरमास में किन-किन चीजों का करना चाहिए दान? जानिए इसके नियम

14 मार्च को सूर्य की मीन संक्रांति के साथ खरमास शुरू हो गया है. 13 अप्रैल 2024 को सूर्य के मेष राशि में प्रवेश के साथ ही खरमास समाप्त हो जाएगा. इस दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए. जब सूर्य बृहस्पति की राशि धनु या मीन में आता है, तब बृहस्पति के अस्त होने के कारण सभी प्रकार के शुभ कार्य वर्जित हो जाते हैं. खरमास के दौरान दान करने की मान्यता है और तिथि के अनुसार दान करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है.

खरमास में दान का महत्व (Kharmas daan)
खरमास में भगवान सूर्य और श्रीहरि विष्णु की पूजा की जाती है. इतना ही नहीं, इन दिनों धार्मिक स्थलों पर स्नान और दान करने का भी विशेष महत्व बताया गया है. इस दौरान एकादशी आने वाले एकादशी का व्रत रखकर श्रीहरि विष्णु को तुलसी के पत्तों वाली खीर का भोग लगाने की परंपरा है. खरमास में तिथि के अनुसार दान करने से विशेष फल मिलता है. साथ ही इस माह में अन्न दान का विशेष महत्व है.

खरमास में वर्जित हैं ये काम
मुंडन
विवाह या अन्य शुभ कार्य
बेटी या बहू की विदाई
गृह प्रवेश
व्यापारिक प्रतिष्ठान का शुभारंभ
खरमास में तिथि के अनुसार दान करें ये चीजें
प्रतिपदा (प्रथम तिथि):- घी से भरा चांदी का बर्तन दान करने से मानसिक शांति मिलती है.
द्वितीया तिथि:- कांसे के बर्तन में सोना रखकर दान करने से घर में कभी धन-धान्य की कमी नहीं होती है.
तृतीया तिथि:- चने का दान करने से जीवन में खुशियां आती हैं.
चतुर्थी तिथि:- खारक दान करने से लाभ मिलता है.
पंचमी तिथि:- गुड़ का दान करने से मान-सम्मान बढ़ता है.
षष्ठी तिथि:- औषधि दान से रोग और विकार दूर होते हैं.
सप्तमी तिथि:- लाल चंदन का दान करने से बल और बुद्धि बढ़ती है.
अष्टमी तिथि:- चंदन का दान करने से व्यक्ति का पराक्रम बढ़ता है.
नवमी तिथि:- केसर दान से भाग्योदय होता है और बिगड़े काम बनते हैं.
दशमी तिथि:- कस्तूरी दान से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.
एकादशी तिथि:- गोरोचन का दान करने से बुद्धि बढ़ती है.
द्वादशी तिथि:- शंख दान से धन की प्राप्ति होती है.
त्रयोदशी तिथि:- मंदिर में घंटी दान करने से पारिवारिक सुख-समृद्धि बनी रहती है.
चतुर्दशी तिथि:- सफेद मोती का दान करने से मानसिक विकार दूर होते हैं.
पूर्णिमा तिथि:- रत्न दान से धन की प्राप्ति होती है.
अमावस्या तिथि:- आटे का दान करने से मिलेगी सभी प्रकार की परेशानियों से मुक्ति मिलती है.
खरमास में करें बर्तनों का दान
खरमास में बर्तन का दान करना बहुत शुभ माना गया है. ज्योतिष के अनुसार इससे व्यक्ति को कलह-कलेश से छुटकारा मिलता है. लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि अगर आप बर्तन दान कर रहे हैं, तो पीतल के ही बर्तनों का दान करें. इससे कुंडली में देव गुरु बृहस्पति की स्थिति मजबूत हो सकती है.
खरमास में करें वस्त्रों का दान
खरमास में वस्त्र का दान करना बेहद लाभकारी माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि इससे व्यक्ति को कभी भी कंगाली का सामना नहीं करना पड़ता है और भगवान विष्णु की कृपा भी बनी रहती है.

खरमास में गुड़ का दान
खरमास में गुड़ का दान विशेष रूप से करना चाहिए. कहा जाता है कि इससे कुंडली में स्थित सूर्य की स्थिति ठीक होती है और व्यक्ति को समाज में मान-सम्मान की प्राप्ति हो सकती है.

खरमास में केसर का दान
खरमास में केसर का दान जरूर करना चाहिए. मान्यता है कि इससे आपके किसी भी काम की कोई भी रुकावट से छुटकारा मिल सकता है. इसके अलावा खरमास में केसर का दान करके सौभाग्य बना रहता है.

खरमास में करें कस्तूरी का दान
खरमास में कस्तूरी का दान करना चाहिए. कहा जाता है कि इससे संतान संबंधी सभी समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है और सूर्यदेव का आशीर्वाद की भी प्राप्त हो सकता है