दो दिनों से चूल्हा नहीं जला, पानी पी कर रह रहे हैं, मकान मालिक टेंशन दे रहा- पॉलिटेक्निक छात्र ने लगाई फांसी

बाराबंकी में पॉलिटेक्निक छात्र ने संदिग्ध परिस्थितियों में आत्महत्या कर ली है। किराए के कमरे पर रहे छात्र ने मकान मालिक पर प्रताड़ना के आरोप लगाए हैं

दो दिनों से चूल्हा नहीं जला, पानी पी कर रह रहे हैं, मकान मालिक टेंशन दे रहा- पॉलिटेक्निक छात्र ने लगाई फांसी

बाराबंकी में पॉलिटेक्निक छात्र ने संदिग्ध परिस्थितियों में आत्महत्या कर ली है। किराए के कमरे पर रहे छात्र ने मकान मालिक पर प्रताड़ना के आरोप लगाए हैं। वहीं पुलिस को मौके से मिले सुइसाइड नोट में मकान मालिक पर परेशान करने के आरोप लगाए हैं। छात्र गर्मी से परेशान था लेकिन मकान मालिक न बैट्री पंखा इस्तेमाल नहीं करने दिया। छात्र के अनुसार, किराया न देने पर भी वह बार-बार तंग कर रहा था। सूचना पर पहुंचे भाई ने मकान मालिक के खिलाफ प्रताड़ित करने की लिखित शिकायत दी है।
जैदपुर कोतवाली क्षेत्र के राजकीय पॉलिटेक्निक जगनिया डीह में पढ़ने वाले छात्र का शव शुक्रवार सुबह कमरे में फांसी पर लटकता पाया गया। सीतापुर जिले के थाना महमूदाबाद निवासी जयदीप वर्मा यहां बरैया चौराहे पर स्थित लक्ष्मी नारायण वर्मा के यहां किराए पर कमरा लेकर पढ़ाई कर रहा था। वह पॉलिटेक्निक में प्रथम वर्ष का छात्र था।

मोबाइल स्टेट्स में लिखा- ‘मौत की वजह’
शुक्रवार सुबह उसके दोस्त जब कमरे पर पहुंचे तो जयदीप का शव पंखे से लटकता मिला। इसकी सूचना मकान मालिक और पुलिस को दी गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर परिजनों को सूचित किया जिसके बाद परिजनों में चीख पुकार मच गई। मृतक जयदीप के बड़े भाई उमा शंकर ने बताया कि छोटा भाई बरैया चौराहे पर लक्ष्मी नारायण वर्मा के मकान में रह कर पॉलिटेक्निक की पढ़ाई कर रहा था। मकान की छत में लगा पंखा न चलने पर कंडेंसर बदलने की बात मकान मालिक से कही थी लेकिन उन्होंने उसको अनसुना कर दिया। इस पर भाई दूसरा पंखा ले आया था। भाई ने बताया कि आक्रोशित मकान मालिक लक्ष्मी नारायण नाराज होकर डांट लगाता रहता था, जिसके डिप्रेशन में उसने खुदकुशी कर ली। जयदीप ने अपने मोबाइल के स्टेटस में (मकान मालिक) लक्ष्मी नारायण को मौत की वजह और मिस यू मम्मी, मिस यू फैमली का स्टेटस भी लगाया हुआ था।

मकान मालिक देता टेंशन ही टेंशन
छात्र को गर्मी की वजह से पढ़ाई न हो पाने की भी टेंशन थी। उसने लिखा था, ‘मकान मालिक लक्ष्मी नारायण बात-बात पर टेंशन देता है। भीषण गर्मी में पंखे का कंडेंसर नहीं बदला, और बैट्री वाला पंखा लाए जिसके इस्तेमाल पर लक्ष्मी नारायण को प्रॉब्‍लम हो गई। गर्मी में पढ़ाई कैसे करें बहुत टेंशन है, दो दिनों से चूल्हा नहीं जला, पानी पी कर रह रहे हैं। लक्ष्मी नारायण टेंशन पे टेंशन देते जा रहा है।' रूम का किराया जमा न होने पर रूम छोड़ने की धमकी जैसी बात लिखी हैं।

बजट के अभाव में अधूरा पड़ा छात्रावास
वहीं कालेज प्राचार्य के अनुसार वर्ष 2021 में स्थानांतरित हुई संस्था राजकीय पॉलिटेक्निक में बजट आभाव के चलते दो छात्रावास का निर्माण कार्य अधूरा है। मजबूरी में कॉलेज के छात्रों को बाहर किराए पर रहना पड़ता है और मकान मालिकों की परेशानी झेलनी पड़ती है। छात्रावास के लिए शासन स्तर पर बजट आवंटित करने की मांग की गई है।