IPL 2024 से निकलेगा T20 World Cup जीत का प्लान, रोहित शर्मा और विराट कोहली के पास आखिरी मौका?

इस बार का आईपीएल कई मायनों में खास होने वाला है। रोहित-विराट सरीखे बड़े खिलाड़ियों की प्रतिष्ठा दांव पर है।

IPL 2024 से निकलेगा T20 World Cup जीत का प्लान, रोहित शर्मा और विराट कोहली के पास आखिरी मौका?

इस बार का आईपीएल कई मायनों में खास होने वाला है। रोहित-विराट सरीखे बड़े खिलाड़ियों की प्रतिष्ठा दांव पर है। जब दोनों दिग्गज 22 मार्च से शुरू हो रहे टूर्नामेंट में अपनी-अपनी टीम से खेलने उतरेंगे तो उनके दिमाग में 2 जून से शुरू होने वाला टी-20 वर्ल्ड कप भी होगा। फॉर्म, फिटनेस, टेक्निक और अप्रोच का सही टेस्ट होगा क्योंकि आईपीएल खत्म होते ही यूएस-वेस्टइंडीज में वर्ल्ड कप की शुरुआत हो जाएगी। जय शाह ने खुले मंच से रोहित शर्मा को कप्तानी सौंपने की बात कहकर एक डाउट तो क्लियर कर ही दिया था, लेकिन विराट कोहली के लिए तो अस्तित्व की लड़ाई है।

दांव पर विराट कोहली की इज्जत
विराट कोहली भले ही लगातार टी-20 में शानदार प्रदर्शन कर रहे हो। उनके लक्ष्य का पीछा करने की क्षमता पर किसी को कोई संदेह नहीं हो। पिछले टी-20 वर्ल्ड कप के दौरान वह भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे हो। लक्ष्य का पीछा करते हुए नौ पारियों में 518 रन ठोके हो, लेकिन फिर भी टीम में उनकी जगह पर सवाल हैं। टी-20 फॉर्मेट में चीकू का स्ट्राइक रेट हर किसी को खटकता है। हालांकि आईपीएल के पिछले सीजन उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए दो शतकों सहित 139.82 की स्ट्राइक रेट से 639 रन बनाए थे। ऐसे में कोहली जैसे ट्रंप कार्ड को यूएस-वेस्टइंडीज की स्लो विकेट पर बाहर करने का जोखिम भरा फैसला शायद ही कोई सिलेक्शन कमेटी करेगी।

वनडे वर्ल्ड कप जीत जाते तो बात कुछ और होती
लॉजिक तो यही कहता है कि अगर सिलेक्टर्स ने रोहित शर्मा को चुन लिया तो उन्हें विराट कोहली को भी रखना चाहिए। 2022 में ऑस्ट्रेलिया में खेले गए टी-20 वर्ल्ड कप के बाद ये मान लिया गया था कि रोहित-विराट अब इस फॉर्मेट में वापसी नहीं करेंगे और अगले टी-20 वर्ल्ड कप में युवाओं की फौज ही भारत की नुमाइंदगी करेगी। इसी सोच ने 2023 में हुए वनडे वर्ल्ड कप में भारत के खेल को पूरी तरह बदला। टीम इंडिया पूरे टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करने के बाद अपने ही घर में ऑस्ट्रेलिया से फाइनल हार गई। रोहित-विराट दोनों के बल्ले से जमकर रन उगले थे। अगर भारत वह विश्व कप जीत जाता तो शायद टी-20 वर्ल्ड कप में खेलने की उनकी भूख भी शांत हो जाती, लेकिन दिल तोड़ने वाली हार के बाद एक दबी और शांत मांग ये भी है कि दोनों दिग्गजों को देश एक वर्ल्ड कप जीतते देखने चाहता है, हालांकि विराट 2011 की वर्ल्ड कप विनिंग टीम के मेंबर थे।


IPL में घटिया फॉर्म से गुजर रहे रोहित
रोहित को भले ही टी-20 वर्ल्ड कप में भारत का कप्तान बना दिया गया हो, लेकिन वह आईपीएल में हार्दिक पंड्या से मुंबई इंडियंस की कप्तानी खो चुके हैं। वही पंड्या जिन्हें कुछ महीने पहले तक टी-20 वर्ल्ड कप में भारत का नया कप्तान माना जा रहा था। अब रोहित को बल्ले से अपने आलोचकों को जवाब देना होगा। पिछले कुछ सीजन से उनका बल्ला इस कैश रीच लीग में बुरी तरह खामोश रहा है। साल 2023 में वह सिर्फ 20.75 तो 2022 में 19.14 की औसत से रन बनाने में कामयाब हो पाए। 2017 से 2023 के बीच आईपीएल की 100 पारियों में रोहित के बल्ले से एक भी शतक नहीं निकला। 13 अर्धशतक से ही इस विस्फोटक बल्लेबाज को संतोष करना पड़ा। 29 अप्रैल 2021 से 8 अप्रैल 2023 के बीच 24 पारियों में एक भी फिफ्टी नहीं मार पाए। इस साल जनवरी में अफगानिस्तान के खिलाफ टी-20 सीरीज के दौरान उन्होंने बेंगलुरु में अपनी पांचवीं टी-20 सेंचुरी जरूर ठोककर अपने फॉर्म में लौटने की तस्दीक कर दी है।

कोहली के आने से युवाओं को पत्ता कटेगा
विराट कोहली आईपीएल में अपनी फ्रैंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के लिए ओपनिंग करते हैं, लेकिन भारत के लिए नंबर 3 पर बल्लेबाजी करते हैं। इस पोजिशन पर शुभमन गिल और यशस्वी जायसवाल जैसे होनहार खिलाड़ियों से प्रतिस्पर्धा के चलते टी-20 वर्ल्ड कप का टीम सिलेक्शन किसी माथा-पच्ची से कम नहीं होगा। मिडिल ऑर्डर में तिलक वर्मा और रिंकू सिंह जैसी युवा प्रतिभाएं अपनी बारी का इंतजार कर रहीं हैं। भारत की आकांक्षाएं रोहित और कोहली के कंधों पर टिकी हैं, उम्मीद है कि आईपीएल में उनका प्रदर्शन विश्व कप की सफलता का रास्ता दिखाएगी। आईपीएल में उनका फॉर्म ही तय करेगा कि भारत को विश्व कप खिताब का सपना देखना चाहिए या नहीं।