उत्तर प्रदेश पुलिस कांस्टेबल भर्ती का पेपर करवाने वाली कंपनी ब्लैकलिस्ट, अब होगा ये एक्शन

उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती का पेपर करवाने वाली गुजरात की प्राइवेट कंपनी एज्युटेस्ट (Edutest) को यूपी सरकार ने ब्लैकलिस्ट कर दिया है.

उत्तर प्रदेश पुलिस कांस्टेबल भर्ती का पेपर करवाने वाली कंपनी ब्लैकलिस्ट, अब होगा ये एक्शन

उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती का पेपर करवाने वाली गुजरात की प्राइवेट कंपनी एज्युटेस्ट (Edutest) को यूपी सरकार ने ब्लैकलिस्ट कर दिया है. STF की मेरठ यूनिट यूपी पुलिस पेपर लीक मामले की जांच कर रही है. जांच के दौरान STF की रिपोर्ट पर एज्युटेस्ट कंपनी को ब्लैकलिस्ट कर दिया गया है. UP पुलिस भर्ती बोर्ड के अध्यक्ष ADG रेणुका कुमार को पहले ही हटा दिया गया था

उत्तर प्रदेश पुलिस सिपाही भर्ती परीक्षा पेपर लीक मामले में बड़ा एक्शन लिया गया है. यूपी की स्पेशल टास्क फोर्स (UPSTF) की रिपोर्ट के बाद सिपाही भर्ती परीक्षा करवाने वाली गुजरात की कंपनी एजुटेस्ट (Edutest) को ब्लैकलिस्ट (Blacklist) कर दिया गया है. अब एजूटेस्ट को प्रदेश में किसी भी विभाग में भर्ती परीक्षा कराने का काम नहीं मिलेगा. साथ ही उसके खिलाफ कानूनी शिकंजा भी कसने की तैयारी है.

यूपीएसटीएफ की जांच के लिए मेरठ यूनिट ने एजूटेस्ट कंपनी के संचालक विनीत आर्य को चार बार नोटिस भेजा था, लेकिन वह एक बार भी नहीं आए. जानकारी मिली कि एसटीएफ की जांच शुरू होते ही विनीत आर्य अमेरिका चला गए थे. वो अब तक वापस नहीं लौटे हैं. मामले में UP पुलिस भर्ती बोर्ड के अध्यक्ष ADG रेणुका कुमार को पहले ही हटा दिया गया है.

उत्तर प्रदेश सरकार ने फरवरी 2024 में पेपर लीक के चलते कुल 60,244 पदों की यूपी पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा रद्द कर दी थी. इस परीक्षा के लिए 48 लाख से ज्यादा उम्मीदवारों ने आवेदन किया था. यूपी कांस्टेबल भर्ती परीक्षा करवाने की जिम्मेदारी Edutest को दी गई थी. इसी कंपनी ने ही सिपाही भर्ती परीक्षा का पेपर पहुंचाने के लिए नोएडा की लॉजिस्टिक्स कंपनी को ठेका दिया था. एजुटेस्ट के लोगों ने ट्रांसपोर्ट कंपनी के वेयरहाउस का मुआयना किया था. प्रयागराज निवासी राजीव नयन मिश्रा के कहने पर शुभम मंडल को बुलाया गया वेयरहाउस में रखे बॉक्स से फिर भर्ती का पेपर निकलवाया था.