प्यार करने वाले ध्यान दे :KISS करने से होती हैं बीमारियां! कपल हो जाएं सावधान

किस करने से मुंह एक दूसरे के करीब आते हैं. ऐसे में हमारी सांसे एक दूसरे के शरीर में जाती हैं और इस दौरान बैक्टीरिया की अदला-बदली हो जाती है. इन बैक्टीरियों के अदला बदली के चलते सांस संबंधित बीमारियां इंफ्लुएंजा या फ्लू हो जाता है. इससे सांस लेने में दिक्कत होती है और सांस लेने में तकलीफ भी होती है. किस करते समय इस समस्या से बचना बहुत ही मुश्किल होता है. 

प्यार करने वाले ध्यान दे :KISS करने से होती हैं बीमारियां! कपल हो जाएं सावधान

प्यार करने के यूं तो कई तरीके हैं लेकिन कपल अक्सर प्यार जाहिर करने के लिए किस का सहारा लेता है. माना जाता है कि इससे रिश्ते में मजबूती आती है. रिलेशनशिप में काफी नजदीकियां होती है, जो किसी न किसी रूप में देखने को मिलता है, चाहे वह पार्टनर की केयर करने की बात हो या फिर उसके साथ समय बिताने की बात हो. इस दौर में हर कोई एक उम्र के बाद किसी न किसी के साथ रिलेशनशिप में आ जाता है. प्यार के साथ कपल को और भी कई बातों का ध्यान भी देना चाहिए कि इसमें उन्हें किसी भी तरह की परेशानी ना हो. किस करते समय किन बीमारियों के होने का खतरा रहता है, आज हम इस विषय पर बात करते हुए उन बीमारियों के बारे में जानेंगे. 

किस करने से आपको सिफलिस हो सकता है. इसलिए इन बैक्टीरियल इंफेक्शन से बचने की खासकर जरूरत है. इस बीमारी में मुंह में घाव बन जाते हैं. किसी कपल के मुंह में या उसके आसपास सिफलिस के घाव है, तो किस करने वाले कपल को यह इंफेक्शन फैल सकता है. यह संक्रमण वाली जगह पर दर्द रहित घाव से शुरू होता है और दाने, बुखार, थकान, सिरदर्द और भूख में कमी का कारण बनता है. यह टी पैलिडम नाम के बैक्टीरिया द्वारा फैलने वाला इंफेक्शन है. इस बीमारी में छाले होंठ और मुंह में काफी फैल जाते हैं. 

किस करने से मुंह एक दूसरे के करीब आते हैं. ऐसे में हमारी सांसे एक दूसरे के शरीर में जाती हैं और इस दौरान बैक्टीरिया की अदला-बदली हो जाती है. इन बैक्टीरियों के अदला बदली के चलते सांस संबंधित बीमारियां इंफ्लुएंजा या फ्लू हो जाता है. इससे सांस लेने में दिक्कत होती है और सांस लेने में तकलीफ भी होती है. किस करते समय इस समस्या से बचना बहुत ही मुश्किल होता है. 

किसिंग डिजीज या मोनोन्यूक्लिओसिस जिसको आम भाषा में मोनो कहा जाता है, इसे किस करने के कारण फैलने वाले रोगों को कहा जाता है. यह एपस्टीन-बार नामक वायरस के कारण होता है, जो लार से फैलता है. इस वायरस को आप किस करते समय पकड़ता है, इसलिए इस बीमारी का नाम किसिंग डिजीज है. Mono (एपस्टीन-बार वायरस) का कारण बनने वाला वायरस लार के माध्यम से फैलता है.  

कृपया ध्यान दे -
इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है.  सूचना के विभिन्न माध्यमों से संकलित करके यह सूचना आप तक पहुंचाई गई हैं. हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है.